तीजा के तिहार अउ भरम के भूत – छत्तीसगढ़ी कहानी

तीजा के तिहार अउ भरम के भूत – छत्तीसगढ़ी कहानी

  • स्व. कपिलनाथ कश्यप बिलासपुर

तीजा तिहार चार दिन आंचे रहय। राधा चार भाई एकझन दुलोरिन बहिनी ससुर अपन कुरिया के डेहरी म बइठे बइठे सुररत रहय कि बोला लेय वर आज ले कोनो कइसे नई दिखिन चोकर दाई तीजा के चार दिन के पहिली भइया ल ले बर काबर नह भेजिस वोकर संगवारीमन आ गे होही जम्मों झन जुर-जुर के गोठियावत होही ठीक बोतके बेरा बरातू पहटिया भइस ल बांधे बर आइस खोला देख के राधा डेहरी ले तिरियागे अउ कपाट के ओधा ले कहिसा कस हो पहटिया अपन बेटा ला मोर मइके नइ भेज देतेस। जाके मोर दाई ल तीजा ले बर बलाये हे कह आतिस बरातू हांसत-हांसत कहिस भेज देहव दाई काल बिहनिहा अउ भइस बांध के चारा पानी देइस अउ चल देइस

राधा के सास जउन ऊपर ले राधा ल पहटिया संग गोठियावत देखे रहय वोकर देह म आगी तो बरगे बिखहर नागिन अस फुफकारत राधा के कुरिया म आके

राधा ल कहिस- तोला लाज सरम लगये वो नकटी। एक तो ते अपन नाक कटाबे त कटाबे, तें हमरो नाक ल कटवाबे छी-छी बड़का घर के बेटी, पतो होके कमिया पहटियामन सो हांसही गोठियाहीं आन दे तोर गोसइया ल। तभे तौर घर के डेहरी म गोड़ धरते वोला का होंगे। वोकरो मूड म मोहनी थोप दे तभे तो ससम के मोरो सो नई गोठियावय। कालेच बिहनिहा तोला तोर मइके नइ अमराहव तव मोर पारबती के नाव का लेबे।

बिचारी राधा सास के गोठ ल सुनके सकपकागे। आंखी ले टप- टप आंसू गिरे लागिस। आगू ह अंधियार लागिस का के का होगे भगवान! मने-मन म गुने लागिस बेरा बुड़तहा के बेरा राधा के भाई

बाबूलाल पागाबांधे रोटी- पीठा के गठरी धरे लहकत राधा ल लेवाये बर आइस राधा अपन भाई के पांव परिस अउ पूछिस ‘दाई बने हे भइया, भाईमन अउ भौजीमन बने हैं। पारबती अपन बेटा मनोहर ल घर आये जान के वोला बला के फुसुर- फुसुर गोठियाइस अउ आखिर म कहिस-निच्चट मेड़वा हो गये। डौकी के बस हो गये हस। वोकर गुन ला मैं जानथंव, तैं नई जानस बिहनिया राधा अपन भाई संग मइके आ गे।

राधा ल मइके आये आठ दिन हो गये रहय, फेर वोला अइसे लगय कि वोहा कालेच आये हे। आज राधा घर वोकर संगवारीमन के नेवता हे। आज सबेझन वोकर घर म जुरमिल के आइन। ठेठरी, खुरमी, कुसली, चीला सबेझन हांस-हांस के खाइन।

रंग-रंग के गोठिया के ठिठोली कर एक-दूसर ल उटकाइन, ताली बजाइन। ठीक वोतके बेरा राधा के दाई आके कहिस। हांस गोठियाला बेटीमन! काल राधा ल वोकर भाई वोकर ससुरार अमराये जाही।

आज ठीक राधा ल एक पाख मइके म राख के वोकर भाई वोला राधा के ससुरार म अमराइस राधा के सास बाबूलाल ल जउन अभी ठाढ़ेच रहय, गुररावत कहिस ‘का जल्दी परे रहिस, अपन बहिनी ल राखे नइ रहितेव। वोकर बिना इहां का अटके हे।’ मइके-मइके रात – दिन रटत तो रहिस, जावा ले जावा, मइके म राखे रहा हमर घर हर वोकर लाइक नइये। वोकर इहां रहे ले हमरो इज्जत बेचा जाही। किसुन का होगे दाई ! काबर

बउछाये हस? पहुना के आगू अइसन नइ कहंय तोर बर पहुना होही मोर तो…। विचारी राधा कपाट के ओधा ले ठाढ़े रोवत- रोवत कहिस- ‘तीजा के तीन दिन पहिली पहटिया ल अतके कहें कि पहटिया तैं अपन बेटा ल काल हमर मइके गांव नइ भेज देतेस, हमर दाई ल ले बर तुंहर बेटी बलाये हे कह आतिस। ऐकर ले एक आखर अठ कुछू कहे होहंब त मोर मुंह म कीरा परही। ऐला सुन के बाबूलाल तो चुपे रहिस, किसुन कहिस कस वो दाई अतके बात ल लेके तैं पहार अलगा लेहे? बाबूलाल कहिस महतारी, एक पइत के मान अबुद्धी छोकरी ल अपने समझ के माफ कर दे। महूं तोर पांव पर के बिनती करथंव। बिचारी राधा आंसू पोंछत अपन सास के गोड़ म गिर गे, फेर पारबती के छाती नइ पसीजिस।

राधा बिचारी अपन भाई के पांव परिस अउ कुरिया भीतर खुसरगे। किसुन ह बाबूलाल ल बाहिर गांव ले अमरायें आइस अउ वोकर पांव परके लहुटगे। बाबूलाल डहर भरत सोचत सोचत कहय- हे भगवान त ह माइलोगिनमन ल कावर जीभ देच जीभ नइ रहतिस त मोर बहिनी के काबर अइसन हाल होतिस। अइसन कहत कहत लहुट-लहुट के पाछू ल देखत बिचारा अपन गांव वर चल देइस।

Treading

#CG SHAYARI CG Birthday Wishesh

जन्मदिन के गाड़ा - गाड़ा बधाई हो मोर भाई सदैव आप मन के उपर महादेव के कृपा अउ आशीर्वाद बने रहाए ''CG Birthday Shayari''

#CG SHAYARI cg chutkule cg funny jokes chhattisgarhi jokes

कभू कभू मन के बात ला बताए ला लगथे, कभू-कभू मया मे खिसीयाय ला लगथे, कभू तो मैसेज कर दे करव संगवारी.. एकरो बर तुमन ला जोजीयाय ला लगथे। ????????????????????

#CG SHAYARI CG LOVE SHAYARI

करले तै भरेसा संगी मन म तोला बसाहुँ। आँखि आँखि म झूलत रथस रानी तोला बनाहुँ। ''छत्तीसगढ़ी लव शायरी''

#CG SHAYARI Chhattisgarhi taali Shayari

कइसे बइठे हौ अल्लर असन,थोरकन अपन मया दिखावा।परस्तुती पसन्द आइस हो ही त, ताली तो जरूर बजावा।। ???? ???? ???? ????

More Posts
x
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Refresh