CG Kavita | छत्तीसगढ़ी कविता कलेक्शन 2021

सीजी-कविता-कलेक्शन

CG Kavita New september 2021


रोवत रोवत कई रात बीत गे ।
सावन-भादो बरसात बीत गे ।
थमते नई’हे मोर आंखी के आंसु ।।
आउ कतेक ले आंसु बोहावंव मै ।।
मया करे हौं मया के आस मे ।
दुनिया छोड़ेंव तोर विश्वास मे ।
मोर मन के हर एक सपना टुटगे ।।
अईसे, कब तक ले पछतावंव मै ।।
आउ कतेक ले आंसु बोहावंव मै ।।
मोर हिरदे मे तै अईसे समाए ।
बईठे रहिथंव मै सुरता लमाए ।
नई छोड़े दिन भर गोरी तोर याद ।।
नींद में भी तोला ही गोहरावंव मै ।।
आउ कतेक ले आंसु बोहावंव मै ।।
मया के फुल कुचल दिए तै ।
छोड़ के मोला, चल दिए तै ।
हर आदमी मतलबी हावय संगी ।।
अब तो कोन ल हाल सुनावंव मै ।।
आउ कतेक ले आंसु बोहावंव मै ।।
पगला दिवाना, नाम मिले हे ।
कतका सुघ्घर ईनाम मिले हे ।
अब मोर भलाई रे इही मे हावय ।।
दिल कोनो-संग, झन लगावंव मै ।।
आउ कतेक ले आंसु बोहावंव मै ।।

( 2 )


CG Kavita collection 2021- दिल टुटे के कारण पूछत हे


दिल टुटे के कारण पूछत हे !!
संग छुटे के कारण पूछत हे !!
कईसे बतावंव संगी अपन कहानी ।।
माड़ी भर नरवा के, मुड़ भर पानी ।।
मन तो करथे याद झन करवं !!
बाकी दिन बरबाद झन करवं !!
पवन-पुरवईया तोर सुरता लेआथे ।।
हो जथे सुरता मे दिल चानी-चानी ।।
माड़ी भर नरवा के, मुड़ भर पानी ।।
पीरा होथे अईसे सहाय नही !!
चुप भी रहिबे तो रहाय नही !!
दिल के दरद जब ज्यादा हो जाथे ।।
छलक तो जाथे, पीरा मुह जुबानी ।।
माड़ी भर नरवा के, मुड़ भर पानी ।।
वोईसे हर दिन सांस चलत हे !!
लेकिन” तोर जुदाई खलत हे !!
ये जिनगी तोर बिना, जिनगी कहां ।।
जैसे तैसे कर के, खपत हे जवानी ।।
कईसे बतावंव संगी अपन कहानी ।।

( 3 )


CG Kavita collection – गजब संहरायेंव तोला


गजब संहरायेंव तोला, मय ह अपन जान के।
हाथ छोड़ाके चल दे तय, बइरी असन मान के ।।
सपना देखाए मोला, रइहौं तोर बन के।
मया के झूलना झलहूँ, का करहूँ धन के ।।
ठगनी कस ठगे मोला,,,,,,, करगा असन धान के,,
हाथ छोड़ाके,,,,,,,बइरी असन मान के!!
गजब संहरायेंव,,,,,,, ,,,,,,अपन जानके!!
दगा दे नइ हंव राजा, ठगे नइ हंव तोला ग।
मोर परान ले पिरिया हावे, तोर मया के किरिया ग।।
आज ले मोर हिरदे गाथे,,,,,,,, तोरेच मया के गान ग!!
सुने बर कान तरस गे, तोर बंसरी के तान ग!!
गजब संहरायेंव,,,,बइरी असन मान के!!
मया वाले ल मिलथे , मया बलदा मया वो।
मोर भाग म मया नइहे, कहाँ खोजंव कांशी गया वो।।
भोग लेहूँ सरी उमर मय,,,,,,, बिधि के बिधान वो!!
हाथ छोड़ा के,,,,,बइरी असन मानके!!
गजब संहरायेंव,,,,,,,,,,अपन जानके!!

( 4 )


सीजी कविता – खड़े रहेंव आज मै,सड़क किनारे


खड़े रहेंव आज मै,सड़क किनारे ।।
तै रेंगत रेंगत मोला तिरछी निहारे ।।
नैना झुकाए रे गोरी देख के मोला ।।
का तै अपन मन मा, सोंचे बिचारे ।।
तहुं अकेली रहे, रहेंव मै अकेल्ला ।।
तभी मोला लगत हे, तै चांस-मारे ।।
तोर अहसान,भुलावंव नही गोरी ।।
सपना मे आके मोर सपना सँवारे ।।
आज-तक, सबले छुपा के राखेवं ।।
मोर मन’के बात ल तहुं जान डारे ।।
तै रेंगत रेंगत मोला तिरछी निहारे ।।

( 5 )


सीजी कविता के नवा नवा कलेक्शन


अओ लजवंती ………
थोकिन देखना मोर कोती ।।
मया संदेशा भेजना मोर कोती।
गोंदा-गुलाब फेकना मोर कोती।
पिरित नेती नेतना मोर कोती ।
अओ, अओ, लजवंती………
नैना अंजोर चंदा सुरुज जोती ।
दांत चमकय जैसे हिरा मोती ।
तोर पियर लुगरा मोर सादा धोती।
ध्यान हमेशा रहे गोरी मोर कोती ।
अओ, लजवंती थोकिन देखना मोर कोती…..

( 6 )


Bes CG Kavita Collection 2021


दिन भर रहिथे अहसास तोर मया के ।
गुरतुर ही लागथे मिठास तोर मया के ।
जिनगी मे आए गोरी, जोगनी बन के ।
तन मन मे बगरे, प्रकाश तोर मया के ।
कर’के नजारा मोर मन नई तो मानय ।
बात कुछ तो होही खास तोर मया के ।
तै कहुं गुजरे कभु, मोर आस पास ले ।
हो-जाथे मोला, आभास तोर मया के ।
बन के बहार गोरी, कब तै बरसबे वो ।
बड़ दिन के हावय आस तोर मया के ।
भले मोर जिनगी, रहय के झन रहय ।
मिटय नही पगली प्यास तोर मया के ।

Treading

#CG SHAYARI CG Birthday Wishesh

जन्मदिन के गाड़ा - गाड़ा बधाई हो मोर भाई सदैव आप मन के उपर महादेव के कृपा अउ आशीर्वाद बने रहाए ''CG Birthday Shayari''

#CG SHAYARI cg chutkule cg funny jokes chhattisgarhi jokes

कभू कभू मन के बात ला बताए ला लगथे, कभू-कभू मया मे खिसीयाय ला लगथे, कभू तो मैसेज कर दे करव संगवारी.. एकरो बर तुमन ला जोजीयाय ला लगथे। ????????????????????

#CG SHAYARI CG LOVE SHAYARI

करले तै भरेसा संगी मन म तोला बसाहुँ। आँखि आँखि म झूलत रथस रानी तोला बनाहुँ। ''छत्तीसगढ़ी लव शायरी''

#CG SHAYARI Chhattisgarhi taali Shayari

कइसे बइठे हौ अल्लर असन,थोरकन अपन मया दिखावा।परस्तुती पसन्द आइस हो ही त, ताली तो जरूर बजावा।। ???? ???? ???? ????

More Posts